गजल जिंदगी के गवाए त देतीं – मनोज भावुक

| द भोजपुरिया टीम, भोजपुरी खोज.काँम के खातिर
मनोज भावुक फेसबुक प्रोफाइल से साभार

गजल जिन्दगी के गवाए त देतीं
दिया साधना के बराए त देतीं
गजल जिन्दगी के गवाए त देतीं
दिया साधना के बराए त देतीं

कहाँ माँगतानी महल, सोना, चानी
टुटलकी पलनिया छवाए त देतीं

कहाँ साफ लउकत बा केहू के सूरत
तलइया के पानी थिराए त देतीं

बा जाये के सभका, त हम कइसे बाँचब
मगर का ह जिनिगी, बुझाए त देतीं

रही ना गरीबी, गरीबे मिटाइब
अरे, रउआ अबकी चुनाए त देतीं

लिखाई, तबे लूर आई लिखे के
मगर रउरा चिचरी पराए त देतीं

मचल आज ‘भावुक’ के दिल में बा हलचल
हिया में हिया के समाए त देतीं

भोजपुरी खोज.काँम को फेसबुक पर लाइक करें अथवा ट्विटर पर फाँलो करें. अगर आपको यह न्यूज़ पसंद आया तो हमारी सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए आप हम viaon@upi (Pay throw UPI BHIM) डोनेशन (दान) दे सकते हैं.

अगर आप एंड्रायड यूजर हैं तो आप हमारे आधिकारिक न्यूज़ एप को गूगल प्ले स्टोर से डाऊनलोड कर सकते हैं