ई न बात हमरा बुझा सकल-पांडेय कपिल जी

| द भोजपुरिया टीम, भोजपुरी खोज.काँम के खातिर

ई न बात हमरा बुझा सकल,काहे वासते ई बवाल बा

जे हवा उठल बिना बात के,ओहि बात के त मलाल बा

कबो छा गइल रहे रूप जे एह दिल मे अउर दिमाग में

उहे रूप बा अपरूप अब,ओकरे हमेशे खयाल बा

बोलते रहल सब लोग,बाकिर कान केहुओ ना दिहल

केहू कुछ कहल, केहू कुछ सुनल,त समाद के इहे हाल बा

देखियो के हम त चुपे रही,बाकी कबले ई चली सिलसिला

इहे सोच मन के सता रहल,ई त जिंदगी के सवाल बा

आके आखिर के पड़ाव पर बिसमाद से मन भर गइल

जे रिसत रहल,नखोरा गइल,इहे आज के अहवाल बा.

भोजपुरी खोज.काँम को फेसबुक पर लाइक करें अथवा ट्विटर पर फाँलो करें. अगर आपको यह न्यूज़ पसंद आया तो हमारी सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए आप हम viaon@upi (Pay throw UPI BHIM) डोनेशन (दान) दे सकते हैं.

अगर आप एंड्रायड यूजर हैं तो आप हमारे आधिकारिक न्यूज़ एप को गूगल प्ले स्टोर से डाऊनलोड कर सकते हैं