अब तक पूरे नहीं कर पाया मां के देखे सपने

अब तक पूरे नहीं कर पाया मां के देखे सपने

फेसबुक पेज पर शेयर किया हुआ मनोज भावुक का लिखा हुआ लेख पढ़ना शुरू...

दर्द उबल के जब छलकेला गज़ल कहेलें भावुक जी-मनोज भावुक

दर्द उबल के जब छलकेला गज़ल कहेलें भावुक जी-मनोज भावुक

दर्द उबल के जब छलकेला गज़ल कहेलें भावुक जी जब-जब जे महसूस करेलें उहे...