घर घर के शान होली बिटिया – मुकेश यादव

घर घर के शान होली बिटिया – मुकेश यादव

हर घर घर के शान होली बिटिया माई बाबू के पहिचान होली बिटिया संमुदर...

अब तक पूरे नहीं कर पाया मां के देखे सपने

अब तक पूरे नहीं कर पाया मां के देखे सपने

फेसबुक पेज पर शेयर किया हुआ मनोज भावुक का लिखा हुआ लेख पढ़ना शुरू...

किरिनियाँ कले-कले कहाँ चलि जाले-अनिरुद्ध तिवारी ‘संयोग’

किरिनियाँ कले-कले कहाँ चलि जाले-अनिरुद्ध तिवारी ‘संयोग’

सारी सोनहुली सबेर झमका के, सँवकेरे रूप के अँजोर छिटिका के, जाये का बेर...

इहाँ रोजी-रोटी के दँवरी नधाइल-पांडेय कपिल

इहाँ रोजी-रोटी के दँवरी नधाइल-पांडेय कपिल

बहुत कुछ कहाइल,बहुत कुछ लिखाइल मगर बात मन के कबो न ओराइल लिखाइल भले...

दर्द उबल के जब छलकेला गज़ल कहेलें भावुक जी-मनोज भावुक

दर्द उबल के जब छलकेला गज़ल कहेलें भावुक जी-मनोज भावुक

दर्द उबल के जब छलकेला गज़ल कहेलें भावुक जी जब-जब जे महसूस करेलें उहे...

कबो लिखा न सकल,तकदीर जिंदगी के – Kumar Mukesh

कबो लिखा न सकल,तकदीर जिंदगी के – Kumar Mukesh

कबो लिखा न सकल, तकदीर जिंदगी केधुआं धुआं ही रह गइल,तस्वीर जिंदगी के मन...

बचपन के हमरा याद के दरपन कहाँ गइल-मनोज भावुक

बचपन के हमरा याद के दरपन कहाँ गइल-मनोज भावुक

बचपन के हमरा याद के दरपन कहाँ गइल माई रे, अपना घर के ऊ...